Champawat Tourism , Height ,Attractions , Temples and Map

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन कि इस पोस्ट में उत्तराखंड राज्य में स्थित प्रसिद्ध हिल स्टेशन ” चम्पावत-(हिल स्टेशन उत्तराखंड ) , Champawat Tourism ,Height ,Attractions ,Temples and Map !! ” के बारे में जानकारी देने वाले है , यदि आप चम्पावत क्षेत्र के बारे में जानकरी प्राप्त करना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े !



Champawat – A Tourist Place In Uttarakhand

Champawat Tourism Uttarakhaचम्पावत , उत्तराखंड में स्थित एक प्रसिद्ध एवम् लोकप्रिय पर्यटन स्थल है | चम्पावत को 1997 में एक अलग जिले के रूप में स्थापित किया गया था और यह क्षेत्र मंदिरों और सौंदर्यपर्ण दृश्य के लिए प्रसिद्ध है | चम्पावत 1613 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को अपने आधीन करता है और नेपाल , उधमसिंह नगर जिला , नैनीताल जिला और अल्मोड़ा जिले के साथ अपनी सीमा को सांझा करता है | चम्पावत, टनकपुर से 75 किमी की दूरी पर राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे उत्तराखण्ड राज्य के चम्पावत ज़िले का प्रशासनिक मुख्यालय है | पौराणिक इतिहास के अनुसार चम्पावत चंद वंश की राजधानी थी |

चम्पावत जगह का नाम “चम्पावती” से लिया गया है , जो कि राजा अर्जुन देव की बेटी थी | एक कथा के अनुसार , भगवान विष्णु “कर्म अवतार” में चम्पावत में उपस्थित थे | प्रसिद्ध प्रकृतिवादी और ब्रिटिश शिकारी जिम कॉर्बेट के द्वारा बाघों की हत्या के बाद यह स्थान लोकप्रिय हो गया एवम् जिम कॉर्बेट ने अपनी पुस्तक “मैन ईटर्स ऑफ़ कुमाऊ Man Eaters of Kumaon” में बाघों की हत्या के बारे में एक स्पष्ट जानकारी दी है | चंपावत में पर्यटकों को वह सब कुछ मिलता है जो वह एक पर्वतीय स्थान से चाहते हैं |

Height of Champawat . Uttarakhand




यह नगर समुद्र तल से लगभग 1615 मी. की ऊँचाई पर स्थित है।

Attractions places and Temples in Champawat , Uttarakhand

बनासौर का किला चम्पावत

Banasaur Ka Kila Tourist Place in Champawat (बाणासुर का किला , चम्पावत)

लोहाघाट से 7 किमी दूर बाणासुर का किला समुद्र तल से 1859 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। ऐसा माना जाता है कि इसका निर्माण मध्यकाल में किया गया था । बनासौर के किले का निर्माण , पौराणिक रूप से प्रसिद्ध राजा बाली के सबसे बड़े पुत्र की याद में किया गया था क्यूंकि जब बाणासुर ने भगवान कृष्ण के पोते को मारने की कोशिश की , तब इस स्थान पर भगवान कृष्ण ने बनासौर की हत्या की |

लोहाघाट चम्पावत

Lohaghat , Tourist place in Champawat (लोहाघाट , पर्यटन स्थल , चम्पावत)

लोहाघाट , एक अत्यधिक लोकप्रिय शहर है , जो कि चम्पावत से लगभग 14 कि.मी. दूर है | यह शहर अपनी अत्यंत समृद्ध और प्राकृतिक सुन्दरता और एतिहासिक स्थानों के लिए जाना जाता है | इस शहर में मायावती आश्रम और माउंट एबट बहुत शांत स्थान है , जहाँ दुनिया भर के आध्यात्मिकताएं इकट्ठा होते हैं और ध्यान करते हैं। लोहाघाट में स्थित खादी बाज़ार अपने विभिन्न प्रकार के स्थानीय हस्तशिल्प और ऊनी के लिए उत्तराखंड में जाना जाता है ।

नागनाथ मंदिर चम्पावत

Nagnath Temple of Champawat (नागनाथ मंदिर , चम्पावत)

उत्तर भारत के विशेष पहाड़ी शहरों में हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव को प्रमुख देवता के रूप में पूजा जाता हैं । यह माना जाता है कि शिव मृत्यु के विजेता है, और अपने सभी भक्तों को हर संभव मुसीबत से बचाते है | नागनाथ मंदिर का निर्माण बाबा गोरखनाथ ने किया था, जो पहाड़ियों के एक प्रसिद्ध ऋषि थे । इस मंदिर में नागनाथ की धूनी के साथ ही कालभैरव का भी मंदिर है और इस मंदिर के बारे में यह भी कहा जाता है कि यहां पूजा अर्चना करने से संतान सुख की प्राप्ति तो होती ही है एवम् शत्रुओं का नाश भी होता है।

Baaleshwer Temple Of Champawat (बालेश्वर मंदिर , चम्पावत)

बालेश्वर मंदिरचम्पावत के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है | इस मंदिर का निर्माण भगवान शिव को समर्पित 10 वीं शताब्दी के आसपास चंद राजवंश के शासको ने किया था | इस मंदिर परिसर के अन्दर दो मंदिर और उपस्थित है , जिसमे पहला मंदिर रत्नेश्वर को समर्पित है जबकि दूसरा मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है | इस मंदिर का अधिकतर हिस्सा पत्थर से बना है , जो कि वास्तुकला का एक अद्भत उदाहरण है |

ऊपर दिए गए चित्र और जानकारी के अलावा भी चम्पावत में प्रसिद्ध स्थल और मंदिर उपस्थित है जो कि निम्न है |

पर्यटन स्थल :- माउंट अब्बुट ,देवीधुरा ,स्यम्लाताल ,पंचेश्वर  ,लोहाघाट ,मायावती आश्रम ,एक हथिया नौला ,विवेकानंद आश्रम ,खेतीखान का सूर्य मंदिर ,कोतवाली चौबुतरा |

प्रसिद्ध मंदिर :- हिंग्लादेवी मंदिर ,घटोच मंदिर ,लड़ीधुरा ,मानेश्वर मंदिर ,ग्वाल देवता मंदिर ,चम्पावती दुर्गा मंदिर ,क्रांतेश्वर मंदिर , आदित्य मंदिर ,पूर्णागिरी मंदिर  |

इससे भी पढ़े :-  पूर्णागिरी मंदिर का इतिहास एवम् मान्यताये ! History and Beliefs of Purnagiri Temple , Uttarakhand

Champawat Map !!

उत्तराखंड राज्य के प्रसिद्ध एवम् लोकप्रिय हिल स्टेशन के बारे में जानने के लिए निचे दिए गए लिंक में क्लिक करे |



उम्मीद करते है कि आपको “ चम्पावत (पर्यटन स्थल) !! Champawat Tourism ,Height ,Attractions ,Temples and Map !! (Uttarakhand)”के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और SHARE जरुर करे |

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOU TUBE CHANNELजरुर SUBSCRIBE करे |