Chopta History , Height , Trek , Weather and Map in Rudraprayag !! (चौपता)

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन की इस पोस्ट में उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित प्रसिद्ध लोकप्रिय पर्यटन स्थल “Chopta History , Height , Trek , Weather and Map in Rudraprayag !! (चौपता)” के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है | यदि आप ” चौपता “ के बारे में पूरी जानकारी जानना चाहते है , तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े |



History of Chopta !! (चौपता का इतिहास !!)

Chopta Trekचोपता उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज़िले में उखीमठ से 37 किलोमीटर दूर पर समुद्र की सतह से 9515 फीट की ऊंचाई पर स्थित है । यह पहाड़ी स्थान एक ऐसी खूबसूरत जगह है , जहाँ पहुँच कर मन को शांति और विश्राम मिलता है | इस स्थान को ‘मिनी स्विट्ज़रलैंड’ के नाम से भी जाना जाता है | यह सिर्फ एक पड़ाव है , जहाँ केदारनाथ और बद्रीनाथ के बीच चलने वाली गाड़ियाँ रुकती हैं । यह छोटा-सा हिल स्टेशन है , जहाँ की सुंदरता किसी साँचे में कैद तस्वीर जैसी लगती है। यह किसी दूसरी दुनिया यानी धरती पर स्वर्ग जैसा अहसास कराती है । तुंगनाथ और उसके आगे चंद्रशिला के लिए पदयात्रा चोपता से ही शुरू होती है । मगर केदारनाथ, मध्य महेश्वर , तुंगनाथ , कल्पेश्वर और रुद्रनाथ की पंचकेदार यात्रा करने वाले तीर्थ यात्री कम ही होते हैं । अधिकतर तीर्थ यात्री चार धाम की यात्रा करते हैं। वे यमुनोत्री और गंगोत्री के बाद केदारनाथ से सीधे बदरीनाथ के लिए रवाना हो जाते हैं। भीड़भाड़ नहीं होने की वजह से ही गढ़वाल के सबसे सुंदर इलाकों में से एक चोपता की कुदरती खूबसूरती और शांति अब भी बरकरार है। चोपटा-तुंगनाथ-चंद्रशिला ट्रेक, ट्रेक्केर्स के लिए एक प्रसिद्ध गंतव्य स्थान है |

चोपता क्षेत्र में बहुत सारे ट्रेक और ट्रेल्स है , जिन्हे जंगल और घास के मैदानों को काट कर बनाया गया है | पक्षियों के बहुतायात के कारण ये स्थान पक्षी प्रेमियों के बीच अत्यधिक लोकप्रिय होता जा रहा है | इस खूबसूरत स्थल से हिमालय की नंदादेवी, त्रिशूल एवं चौखम्बा पर्वत श्रृंखला के आकर्षक दृश्य दिखते हैं । जब सूर्य की किरणें हिमालय की चोटियों पर पड़ती हैं तो यहाँ की सुबह काफ़ी मनोरम लगती है । यहाँ कई यादगार पर्यटन स्थान मौजूद हैं, जो पर्यटकों की यात्रा को यादगार बनाने के लिए पर्याप्त हैं। यह छोटा-सा पहाड़ी स्थान पर्यटन के लिए आकर्षक जगहों से भरपूर है। जहाँ ‘केदारनाथ वाइल्ड लाइफ सेंचुरी’तुंगनाथ , चंद्रशिला और देवहरिया ताल आदि प्रमुख पर्यटक स्थान हैं । गढ़वाल क्षेत्र में गोपेर से लगभग 40 किलोमीटर की दूरी पर गोपेर-ऊखीमठ मार्ग पर स्थित चोपता पड़ता है ।



Height of Chopta !! (चौपता की उंचाई !!)

चोपता , उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज़िले में उखीमठ से 37 किलोमीटर दूर समुद्र की सतह से 9515 फीट की ऊंचाई पर स्थित है ।

Weather of Chopta !! (चोपता का मौसम !!)

चोपता में मार्च में न्यूनतम और अधिकतम तापमान -4 C और 14 C तक होता है और मार्च के महीने में आमतौर पर चोपता बर्फ के साथ कवर किया जाता है और आप पूरे दिन ठंडा ठंडा महसूस करेंगे।

Summer :- गर्मियों के दौरान चोपता का मौसम काफी नम्र और सुखद रहता है । हिमालय में पर्वत बिलकुल साफ़ रूप से दिखाई देते हैं जिससे कि चोपता में ठंडी हवा का आनंद लेने में छुट्टी का आकर्षण बढ़ जाता है और साथ में हलके ऊनी कपडे जरुर ले जाए |




Monsoon:- चोपता की हरियाली प्रकृति के जंगल में खो जाने के लिए पर्यटकों का स्वागत करती है | मानसून के दौरान चट्टानों पर बर्फ की चादर लगी रहती है | इस मौसम में चाय की घूंट का आनंद लें सकते है । मॉनसून के दौरान भूस्खलन के कारण कुछ घंटों तक चोपता की सड़कों को अवरुद्ध होना पड़ता है लेकिन मानसून में चोपता में प्राकृतिक जोखिम अत्यधिक होता है |

Winter :- चोपता में सर्दियों के दौरान शांति और एकांत माहौल में समय बिताने के लिए यह एक बेहतरीन स्थान है | सर्दियों के दौरान चोटीयो का सबसे अच्छा दृश्य दिखाई देता है क्योंकि यह जगह मिनी स्विट्जरलैंड की तरह आकर्षक लगती है | सर्दियों के दौरान चोपता में ठंड अत्यधिक होती है, इसलिए भारी ऊन-मोल के कपडे जरुर ले जाए । चोपता में सर्दियों के दौरान हिमपात, बर्फ ट्रैकिंग और शिविर का भी आनंद लिया जा सकता है ।

Google Map of Chopta , Rudraprayag !!

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग ज़िले में उखीमठ से 37 किलोमीटर की दुरी पर स्थित और समुन्द्र सतह से 9515 फीट की ऊँचाई पर स्थित है | आप इस स्थान को निचे Google Map में देख सकते है |





उम्मीद करते है कि आपको रुद्रप्रयाग जिले में स्थित पर्यटन स्थल “Chopta History , Height , Trek , Weather and Map in Rudraprayag !! (चौपता) ” के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और SHARE  जरुर करे |

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे मे जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOUTUBE  CHANNEL जरुर   SUBSCRIBE करे |