Didihat Pithoragarh History , Tourist Places , Map and Weather !! डीडीहाट पिथौरागढ़ (इतिहास , पर्यटन स्थल , मौसम) !!

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन कि इस पोस्ट में पिथौरागढ़ जिले में स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थल “डीडीहाट” के बारे में जानकारी देने वाले है , यदि आप पिथौरागढ़ जिले में स्थित पर्यटन स्थल “डीडीहाट” के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े |



डीडीहाट एक शांत पर्यटन स्थल है जो कि पिथौरागढ़ जिले में स्थित है | डीडीहाट पर्यटन स्थल होने के साथ-साथ एक नगर पंचायत है एवम् डीडीहाट पिथौरागढ़ शहर से 54 कि.मी. की दुरी पर स्थित है | डीडीहाट समुन्द्र तल से 1725 मीटर की ऊँचाई पर “दिग्तढ़” “Digtarh” नामक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और इस पहाड़ी की चोटी के निचे चरमगढ़ व भदीगढ़ नामक नदियां बहती हैं | इस नगर के निकट सुंदर “हाट घाटी” स्थित है ,जहाँ भगवान शिव को समर्पित “सीराकोट” नामक एक प्रसिद्ध मंदिर स्थित है । डीडीहाट की मुख्य भाषा हिंदी ,कुमाउनी एवम् संस्कृत है तथा अधिकाँश गाँव में रहने वाले लोग हिंदी और कुमाउनी भाषा में बातचीत करते है |

History of Didihat Pithoragarh!! (डीडीहाट का इतिहास , पिथौरागढ़)

History of Didihatडीडीहाट का नाम कुमाऊंनी शब्द ‘डंड’ से लिया गया है , जिसका मतलब एक छोटी सी पहाड़ी से है । वर्तमान समय के अनुसार डीडीहाट क्षेत्र ऐतिहासिक रूप से सीराकोट के रिका (Raika)मल्ला राजाओं के द्वारा शासित था | भगवान मलय नाथ का प्राचीन सिराकोट मंदिर रिका (Raika) राजाओं द्वारा निर्मित किया गया | राजा हरी मल्ला के समय तक , यह क्षेत्र नेपाल के डोती साम्राज्य के आधीन था | बाद में 1581 ईस्वी में चंद वंश के शासक “रूद्र चंद” ने नेपाल के डोती साम्राज्य को युद्ध में पराजित कर इस क्षेत्र को अपने नियंत्रण में ले लिया और अभी भी वर्तमान समय में डीडीहाट क्षेत्र में प्राचीन किले और मंदिरों के कुछ अवशेष मौजूद है |

डीडीहाट 1947 में सयुंक्त प्रांत (United Provinces) के अल्मोड़ा जिले में एक तहसील था , जब भारत ने ब्रिटेन से स्वतन्त्रता जीती थी | डीडीहाट तहसील को अल्मोड़ा जिले के अन्य उत्तर-पूर्वी हिस्सों के साथ , 1960 में बना पिथौरागढ़ जिले के साथ स्थानांतरित कर दिया गया | डीडीहाट तहसील के 298 गाँवो को स्थानांतरित कर 2001-2011 के दौरान एक नया तहसील “बेरीनाग” बनाया गया | डीडीहाट क्षेत्र को 15 अगस्त 2011 में मुख्य मंत्री रमेश चन्द्र पोखरियाल के द्वारा एक नए जिले के रूप में घोषित किया गया हालांकि , अभी तक जिले का आधिकारिक तौर पर गठन नहीं हुआ है |

Activities in Didihat Pithoragarh !!





पिथौरागढ़ जिले के डीडीहाट क्षेत्र में आप निम्न गतिविधिया कर सकते है |

  1. Hiking :- यह अद्भुत छोटा शहर हरियाली , खूबसूरत दृश्य और शांतिपूर्ण आकर्षण का लुफ्त उठाने के लिए इस क्षेत्र में आने के लिए प्रोत्साहित करता है | यह शहर पंचचुली और त्रिशूल चोटी के मनोरम दृश्य भी पेश करता है |
  2. Camping:- डीडीहाट में रहने के लिए कम आवास होने के कारण कैम्पिंग एक बेहतरीन तरीका और सस्ता तरीका है , जिसके कारण रात में सितारों के निचे रात बिताने का मौका मिलता है और कैम्पिंग के दौरान लकडियो को जलाकर आप अपने दोस्तों के साथ डीडीहाट की प्राकर्तिक सौन्दर्यता का आनंद ले सकते है |
  3. Village Tourism:- डीडीहाट कुमाऊ के हिमालय में स्थित एक विचित्र छोटा पहाड़ है | जहाँ आप स्थानीय लोगो की देहाती जीवनशैली , रीती-रिवाजों और संस्कृति का अनुभव कर सकते है और शोर-गुल के माहौल की ज़िन्दगी से दूर डीडीहाट क्षेत्र में शांतिपूर्ण वातावरण का आनंद ले सकते है |

Weather of Didihat Pithoragarh !!

डीडीहाट क्षेत्र  में मानसून मौसम को छोड़कर , शांत और सुखद मौसम को देखते हुए दौरा किया जा सकता है । सर्दियों में कठोर ठंडा होने के कारण इस क्षेत्र में आने वाले लोगों को पर्याप्त ऊनी कपड़े रखने चाहिए । ग्रीष्म ऋतु के मौसम में ठंडी हवा , गर्म धूप और हरे भरी हरियाली का आनंद लेने के साथ-साथ यात्रा करने के लिए यह एक शानदार समय है |

Tourist Places Near Didihat Pithoragarh !!

डीडीहाट के निकट आप बेरीनाग , धारचूला , मुन्सियारी , बागेश्वर , लोहाघाट , पिथौरागढ़ , चौकोरी , कौसानी , बिनसर , चम्पावत , अल्मोड़ा , रानीखेत आदि स्थानों में यात्रा कर आप डीडीहाट के निकट पर्यटक स्थानों का आनंद ले सकते है |

Didihat Map

पिथौरागढ़ जिले की यात्रा के दौरान पातल भुवनेश्वर और नारायण स्वामी आश्रम के दर्शन भी जरुर करे ! यदि आप इन दोनों पर्यटक स्थल के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो निचे दिए गए लिंक में क्लिक कर पोस्ट को जरुर पढ़े !



उम्मीद करते है कि आपको “डीडीहाट पर्यटन स्थल पिथौरागढ़ (Didihat , Pithoragarh)” के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और SHARE जरुर करे |

और उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOU TUBE CHANNEL जरुर SUBSCRIBE करे |