Durga Devi Temple , Kotdwar , Pauri Garhwal !! (दुर्गा देवी मंदिर)

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन की इस पोस्ट में पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार क्षेत्र में स्थित ” Durga Devi Temple , Kotdwar , Pauri Garhwal !! (दुर्गा देवी मंदिर) के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है , यदि आप “दुर्गा देवी मंदिर” के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े |

Durga Devi Temple , Kotdwar , Pauri Garhwal !! (दुर्गा देवी मंदिर)





Durga Devi Temple Kotdwarदुर्गा देवी मंदिर , उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार शहर में स्थित एक प्राचीन एवम् लोकप्रिय मंदिर है | यह मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है और देवी दुर्गा को समर्पित है , मंदिर को प्राचीनतम सिद्धपिठों में से एक माना जाता है | दुर्गा देवी मंदिर , कोटद्वार शहर से लगभग 11 कि.मी. और लैंसडाउन से 28 किमी की दुरी पर समुन्द्रतल की सतह से 600 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और यह मंदिर कोटद्वार शहर में पूजा करने के लिए एक महत्वपूर्ण स्थान है | दुर्गा देवी मंदिर खूबसूरत ढंग से कोटद्वार शहर में सड़क के पास एक पहाड़ी की तिरछी जगह पर निर्मित है | इस मंदिर में माँ दुर्गा पहाड़ में प्रकट हुई थी | आधुनिक मन्दिर सड़क के पास स्थित है परन्तु प्राचीन मन्दिर आधुनिक मन्दिर से थोड़ा नीचे एक 12 फीट लम्बी गुफा में स्थित है , जिसमें एक शिवलिंग स्थापित है | बहुत दूर दूर से लोग देवी दुर्गा का आशीर्वाद लेने आते है और भक्तो का मानना है कि देवी दुर्गा अपने सभी भक्तो की इच्छाओ को पूरा करती है और लोग विश्वास के लिए मंदिर में लाल चुनरी बाधते है | मुख्य मंदिर के निकट स्थित एक छोटी सी गुफा है | उस गुफा में माँ दुर्गा के दर्शन के लिए भक्तो को लेट कर जाना होता है | दुर्गा देवी के इस मंदिर के सम्बन्ध में कई चमत्कारिक कहानी है |

इस मंदिर में देवी माँ के चट्टानों से उभरी एक प्रतिमा है और अन्दर एक ज्योति है , जो कि सदैव जली रहती है | स्थानीय लोग यह भी कहते है कि कई बार माँ दुर्गा का वाहन “सिंह या शेर” मंदिर में आकर देवी दुर्गा के दर्शन कर शांत भाव से लौट जाता था | दुर्गा देवी मंदिर के निर्माण में भी एक रोचक कथा छुपी हुयी है | कहा जाता है कि  मंदिर प्राचीन समय में बहुत छोटे आकर में हुआ करता था किन्तु दिगद्धा कोटद्वार के बीच सड़क निर्माण कार्य में व्यवधान आने पर ठेकेदार द्वारा भव्य मंदिर की स्थापना की गई तो कार्य तेजी से संपन्न हुआ | इस मंदिर के दर्शन करने के बाद आपके सारे रुके हुए काम पुरे हो जाते है | दुर्गा देवी मंदिर के निकट छोटे नदी के किनारे पर दिव्य शांति मिलती है । चैत्रीय व शारदीय नवरात्र पर मंदिर में भक्तों या श्रद्धालु की भीड़ लगी रहती है और इस दौरान यहां कई श्रद्धालु भण्डारे का आयोजन करते हैं। श्रावण मास के सोमवार और शिवरात्रि को बड़ी संख्यां में शिवभक्त यहां भगवान शिवजी का जलाभिषेक करने आते हैं ।

कोटद्वार में खोह नदी के किनारे पर बना पवित्र स्थान दुर्गा देवी मंदिर के दर्शन के लिए जरुर जाना चाहिए | दुर्गा देवी मंदिर कोटद्वार , पौड़ी अपने प्रियजनों के साथ एक प्यारा समय बिताने लिए एक बेहतरीन स्थान है । इस लोकप्रिय एवम् पवित्र में आकर इस लोकप्रिय मंदिर का आनंद जरुर लेना चाहिए |



पौड़ी गढ़वाल जिले में दुर्गा देवी मंदिर के अलावा अन्य प्रसिद्ध मंदिर NEELKANTH MAHADEV TEMPLE , RISHIKESH , PAURI GARHWAL !! ( नीलकंठ महादेव मंदिर !! ) , Sidhbali Temple , Kotdwar , Pauri Garhwal !! ( सिध्बली मंदिर) , Kandoliya Temple , Pauri Garhwal !! (कंडोलिया मंदिर) , Danda Nagaraja Temple,Pauri Garhwal !! ( डांडा नागराजा मंदिर ) , Dhari Devi Temple , Pauri Garhwal !! ( धारी देवी मंदिर ) के भी दर्शन जरुर करने चाहिए |

Google Map of Durga Devi Temple !!

दुर्गा देवी मंदिर मुख्य कोटद्वार शहर से 11 किमी की दुरी पर ‘दुग्दास’ सड़क पर स्थित है | आप इस स्थान को निचे Google Map में देख सकते है |





उम्मीद करते है कि आपको “Durga Devi Temple , Kotdwar , Pauri Garhwal !! (दुर्गा देवी मंदिर)” के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और SHARE  जरुर करे |

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOUTUBE CHANNEL जरुर SUBSCRIBE  करे |