बेदनी बुग्याल जिला (चमोली गढ़वाल) Bedani Bugyal District Chamoli Garhwal

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन के इस पोस्ट में (Bedani Bugyal District chamoli Garhwal) उत्तराखंड राज्य के( चमोली गढ़वाल जिले) में स्थित बेदनी बुग्याल के बारे में बताने जा रहे है। यदि आप बेदनी बुग्याल के बारे में जानना चाहते है,तो इस पोस्ट को अन्त तक जरूर पढ़े!





बेदनी बुग्याल  चमोली उत्तराखंड

Bedani Bugyal Chamoli Uttarakhand-:

बेदनी बुग्याल

बुग्याल का अर्थ है “पहाड़ो के ऊँचाई पर हरे-भरे घास के मैदान”

बेदनी बुग्याल, गड़वाल हिमालय के हिमशिखरों में स्थित है। यहां के मैदान, हरे-भरें घास के मखमली चादर ओड़े हुऐ होते है।

बेदनी बुग्याल समुद्रतल से 3,354 मीटर की ऊँचाई पर स्थित हैं।बेदनी बुग्याल रूपकुण्ड जाने वाले रास्ते में पड़ता है। यहाँ तक पहुँचने के लिए आपको ऋषिकेश से कर्णप्रयाग,ग्वालदम, मदौली होते हुए वाण गाँव पहुंचना होगा।

वाण से लगभग 10 किलोमीटर की चढ़ाई के बाद  आप बेदनी बुग्याल तक पहुंच सकते है। बुग्याल के बीचों-बीच फैली यह झील यहाँ के सौदर्यं में चार चांद लगा देती है।

बर्फ पीघलने के बाद इन मैदानों में जगह-जगह रंग-बिरंगे छोटे-छोटे फूल खिल आते है, तथा इन मैदानों में कई प्रकार की जड़ी बूटियां भी पायी जाती है। जैसे रतनजोत,कलंक,बज्रदन्ती,अतीष,हत्थाजड़ी आदि।

चमोली गढ़वाल में कई बुग्याल है, उनमें से एक प्रसिद्ध बुग्याल बेदनी बुग्याल  है। इन बुग्यालों में हिमालयी भेड़, हिरण, कस्तूरी मृग, मोनाल जैसे जानवर भी दिखायी देते है।

यहां के हरे-भरें मैदान देखते मन मोह लेते है। यहां का सुन्दर आनन्द लेने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते है। अधिकतर पर्यटक  मई- जून में आते है।

बुग्याल उस क्षेत्र को कहते है। जो (हिम रेखा और वृक्ष रेखा के बीच होता है।)गर्मी के मौसम में ये इलाके स्थानीय लोगों और मवेशियों के लिए ये चरागाह का काम आते हैं। दूसरी तरफ यह पर्यटकों और ट्रैकिंग के शौकीन लोगों के लिए ये कैंपसाइट बन जाते हैं।





 बेदनी बुग्याल तक कैसे जाएं:

How to go to Bedni Bugyal?

इन स्थानों पर जाने के लिए दो आम मार्ग हैं। पहला वान गांव के माध्यम से है और दूसरा एक देहना गांव के माध्यम से है।
बेदनी बुग्याल के रास्ते में पड़ने वाला वाण इस क्षेत्र का आखिरी गांव हैं। वाण से बेदनी बुग्याल की दूरी 10लोमीटर है।

आप नील गंगा नदी के माध्यम से घने हरे – भरे ओक और रोडोडेंड्रॉन के जंगलों से होकर गुजरेंगे, मार्ग घाहरोली पाताल से होकर जाता है जो वाण से 5 किलोमीटर दूर है। इस मार्ग से आप आसानी से  बेदनी बुग्याल तक पहुंच सकते हैं। बेदनी बुग्याल से 4 किलोमीटर की दूरी में अली बुग्याल हैं आप बेदनी बुग्याल के साथ-साथ अली बुग्याल का भी आनन्द ले सकतें हैं

गढ़वाल में प्रसिद्ध बुग्याल Famous Bugyal in Garhwal

bedani-bugyal

गढ़वाल में बहुत सारे छोटे बड़े बुग्याल है लेकिन उनमें से कुछ प्रसिद्ध बुग्याल है।

जैसे बेदनी बुग्याल, पवालीकाण्ठा, चोपता, औली, गुरसों, बंशीनारायण और हर की दून प्रमुख है। इन बुग्यालों में रतनजोत, कलंक, वज्रदन्ती,अतीष हत्थाजडी जैसी कई बहुमूल्य औषधि युक्त जड़ी-बूटियाँ भी पाई जाती है। इसके साथ-साथ हिमालयी भेड़ हिरण,मोनाल, कस्तूरी मृग और धोरड जैसे जानवर भी देखे जा सकते है।





बेदनी बुग्याल की  धार्मिक मान्यताये

Religious Beliefs of Bedni Bugyal-:

Bedni-Bugyal

माना  जाता है कि बेदनी बुग्याल में बैठकर  ब्रह्मा जी  ने  वेदों की रचना की, लगभग 4 वर्ग किलो मीटर में फैला है ये बुग्याल, यहा पर प्रतिवर्श रूपकुण्ड का महोत्सव किया जाता है।

इस बुग्याल के बीच में बैद्रणीकुण्ड में राजकुवर अपने पित्रों को तरपण (मुक्ति) देते है।

यहा पर कुनियाल ब्रहामणों द्वारा पुजा भी  सम्पन्न की जाती है।





बेदनी बुग्याल तक कैसे पहुचें How To Reach Bedani Bugyal?

यहां तक पहुचने के अनेक साधन है।

आप ऋषिकेश या कोटद्वार तक ट्रेन से आ सकते है। वहा से आप बस अथवा टैक्सी से आसानी  वान गाँव (चमोली गढ़वाल ) पहुच सकते है। ऋषिकेश से चमोली की दूरी 226 किलो मीटर है।

GOOGLE MAP OF BEDANI BUGYAL

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया तो इसे like तथा नीचे दिए बटनों द्वारा share जरुर करे!