अल्मोड़ा का इतिहास !! (History of Almora !!)

0
691
अल्मोड़ा का इतिहास

[av_one_full first min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”]

[av_heading tag=’h2′ padding=’10’ heading=’History of Almora (अल्मोड़ा का इतिहास)’ color=” style=’blockquote modern-quote modern-centered’ custom_font=” size=” subheading_active=” subheading_size=’15’ custom_class=” admin_preview_bg=”][/av_heading]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]
नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन कि इस पोस्ट में उत्तराखंड राज्य में स्थित प्रसिद्ध पर्यटन स्थल “अल्मोड़ा” अर्थात ” अल्मोड़ा का इतिहास  के बारे में जानकारी देने वाले है | यदि आप अल्मोड़ा के इतिहास के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो पोस्ट को अंत तक पढ़े |
[/av_textblock]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


अल्मोड़ा जिला उत्तराखंड के कुमाऊं मण्डल का एक जिला है , जिसका मुख्यालय अल्मोड़ा नगर में है | अल्मोड़ा एक पहाड़ी जिला है जो की घोड़े के खुर के समान रूप में
बना हुआ है | अल्मोड़ा जिले का क्षेत्रफल ३०८२ वर्ग किलोमीटर है | एक कथा के अनुसार कहा जाता है कि अल्मोड़ा की कौशिका देवी ने शुम्भ और निशुम्भ नामक दानवो
को इसी क्षेत्र में मारा था | अल्मोड़ा पर पहले चाँद साम्राज्य का अधिकार था फिर कत्यूरी राजवंश का हो गया । (अल्मोड़ा का इतिहास)
[/av_textblock]

[/av_one_full][av_hr class=’default’ height=’50’ shadow=’no-shadow’ position=’center’ custom_border=’av-border-thin’ custom_width=’50px’ custom_border_color=” custom_margin_top=’30px’ custom_margin_bottom=’30px’ icon_select=’yes’ custom_icon_color=” icon=’ue808′]

[av_one_full first min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”]
[av_heading heading=’अल्मोड़ा का इतिहास (उत्तराखंड)’ tag=’h2′ style=’blockquote modern-quote modern-centered’ size=” subheading_active=” subheading_size=’15’ padding=’10’ color=” custom_font=” admin_preview_bg=”][/av_heading]
[/av_one_full]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]
अल्मोड़ा का इतिहास अल्मोड़ा का इतिहास महाभारत के प्राचीन काल में वापस आ सकता है। सातवीं शताब्दी में एक चीनी तीर्थयात्री ने शहर के पहले ऐतिहासिक विवरण प्रदान किया था
कत्युरी राजवंश क्षेत्र ने पहले राज्य की स्थापना की । उनके वंशज, राजा बैचाल्देव ने, भूमि का एक प्रमुख हिस्सा श्री चंद तिवारी, एक गुजराती ब्राह्मण को दान किया।
सोलहवीं शताब्दी के मध्य में , चंद वंश इस क्षेत्र पर शासन कर रहा था। उन्होंने अपनी राजधानी चंपावत से अल्मोड़ा तक स्थानांतरित कर दी और इसे ‘आलम नगर’ या ‘राजपुर’ नाम दिया | अली मुहम्मद खान रोहिल्ला द्वारा छापे के दौरान 1744 में, अल्मोड़ा को चंद वंश से कब्जा कर लिया गया था । हालांकि, पहाड़ियों में रहने की कठिनाइयों को सहन करने में असमर्थ, अली मोहम्मद खान रोहिल्ला ने रोहिल्ला प्रमुखों को , तीन लाख रुपयों की भारी रिश्वत के लिए अल्मोड़ा लौटा दिया। अली मोहम्मद, उनके कमांडरों के आचरण से असंतुष्ट थे , उन्होंने फिर से 1745 में अल्मोड़ा पर हमला किया । हालांकि, इस बार रोहिल्ला पराजित हो गए थे। वे फिर कभी वापस नहीं आए थे | 17 9 0 में, गोरखाओं ने अल्मोड़ा को कब्जा कर लिया, जिन्होंने इसे अगले 24 वर्षों तक शासन किया, जब तक कि 1815 में इसे अंग्रेजों ने नहीं लिया था। ( अल्मोड़ा का इतिहास )

दिलचस्प बात यह है कि जिस पर्वत पर अल्मोड़ा स्थित है वह एक प्रसिद्ध हिंदू महाकाव्य में वर्णन किया गया है – मनसाकंद। यह इस प्रकार पढ़ता है:

“कौशिकी शल्माली माधी पुनाह कश्यया परावाता तासी पश्चिम भागम क्षेत्र विशोनो प्रतिष्ठित”

इस इलाके में पाए जाने वाले कई तांबा प्लेटों पर ‘राजपुर‘ नाम का उल्लेख मिलता है । चन्द शासकों के लिए यहाँ एक समझौता स्थापित करने के लिए एक महत्वपूर्ण
कारण प्राकृतिक वसंत जल स्रोतों की एक संख्या थी, जो इस जगह पर बंदरगाह था। बाद में, उन्होंने यहां भी राजधानी स्थानांतरित की। यह स्थान नोबेल पुरस्कार
विजेता सर रोनाल्ड रॉस का जन्मस्थान है , जो कि मलेरिया के प्रसार के संबंध में अपने काम के लिए प्रसिद्ध है। आज, शहर व्यापार, साथ ही सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक गतिविधियों जैसे गतिविधियों के लिए एक केंद्र बन गया है। और स्वतंत्रता की लडाई में भी अल्मोड़ा का विशेष योगदान रहा है | शिक्षा , कला , संस्कृति के उत्थान में अल्मोड़ा का विशेष हाथ रहा है | कुमाउनी संस्कृति की असली छाप अल्मोड़ा में ही मिलती है – अतः कुमाउं के सभी नगरो में अल्मोड़ा ही सभी दृष्टियों से बड़ा है | (अल्मोड़ा का इतिहास)

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


और यदि आप अल्मोड़ा क्षेत्र में यात्रा करने आते है तो निम्न अल्मोड़ा स्थित प्रसिद्ध मंदिरों के दर्शन जरुर करे और यदि आप उन मंदिरों के इतिहास एवम् मान्यतायो  के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो निचे दिए गए लिंक में क्लिक करे |
[/av_textblock]

[av_icon_box position=’left’ icon_style=” boxed=” icon=’ue81e’ font=’entypo-fontello’ title=’कसार देवी मंदिर का इतिहास एवम् मान्यताये ! (History and Beliefs of Kasar Devi Temple , Almora)’ link=’manually,http://www.uttarakhanddarshan.in/history-and-beliefs-of-kasaar-devi-temple-almora/’ linktarget=’_blank’ linkelement=’both’ font_color=’custom’ custom_title=’#4795e8′ custom_content=” color=” custom_bg=” custom_font=” custom_border=” admin_preview_bg=”][/av_icon_box]

[av_icon_box position=’left’ icon_style=” boxed=” icon=’ue81e’ font=’entypo-fontello’ title=’दूनागिरी मंदिर का इतिहास और मान्यताये ! (History and beliefs of Doonagiri temple ,Almora)’ link=’manually,http://www.uttarakhanddarshan.in/history-and-beliefs-of-doonagiri-temple-almora/’ linktarget=’_blank’ linkelement=’both’ font_color=’custom’ custom_title=’#4795e8′ custom_content=” color=” custom_bg=” custom_font=” custom_border=” admin_preview_bg=”][/av_icon_box]

[av_icon_box position=’left’ icon_style=” boxed=” icon=’ue81e’ font=’entypo-fontello’ title=’चितई गोलू देवता मंदिर का इतिहास और मान्यताये , अल्मोड़ा (History and Beliefs of Chitai Golu Devta Temple , Almora)’ link=’manually,http://www.uttarakhanddarshan.in/history-and-beliefs-of-chitai-golu-devta-temple-almora/’ linktarget=’_blank’ linkelement=’both’ font_color=’custom’ custom_title=’#4795e8′ custom_content=” color=” custom_bg=” custom_font=” custom_border=” admin_preview_bg=”][/av_icon_box]

[av_one_third first min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”]
[av_font_icon icon=’ue82a’ font=’entypo-fontello’ style=” caption=” link=” linktarget=” size=’40px’ position=’center’ color=’#35c646′ admin_preview_bg=”][/av_font_icon]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]

उम्मीद करते है कि आपको “अल्मोड़ा का इतिहास ” के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

[/av_textblock]
[/av_one_third]

[av_one_third min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”]
[av_font_icon icon=’ue82b’ font=’entypo-fontello’ style=” caption=” link=’manually,https://www.facebook.com/UttarakhandDarshan.In/’ linktarget=’_blank’ size=’40px’ position=’center’ color=’#519ae8′ admin_preview_bg=”][/av_font_icon]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और SHARE जरुर करे |

[/av_textblock]
[/av_one_third]

[av_one_third min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”]
[av_font_icon icon=’ue80d’ font=’entypo-fontello’ style=” caption=” link=’manually,https://www.youtube.com/channel/UCEjw6kg9MmKmry6yAOuT6Aw’ linktarget=’_blank’ size=’40px’ position=’center’ color=’#ed3712′ admin_preview_bg=”][/av_font_icon]

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOU TUBE CHANNEL जरुर SUBSCRIBE करे |

[/av_textblock]
[/av_one_third]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here