बागनाथ मंदिर , बागेश्वर (Bagnath Temple,Bageshwer)

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन की इस पोस्ट में उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में स्थित प्रसिद्ध मंदिर “बागनाथ” अर्थात “बागनाथ मंदिर का इतिहास” के बारे में जानकारी देने वाले है , यदि आप बागनाथ मंदिर के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े

बागनाथ मंदिर का इतिहास , बागेश्वर (History of Bagnath Temple , Bageshwer)





History of Baagnath temple of bageshwerयह मंदिर एक पौराणिक मंदिर है , जो कि भगवान शिव को समर्पित है | यह मंदिर उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में स्थित है | बागनाथ मंदिर बागेश्वर जिले का सबसे प्रसिद्ध मंदिर है , इसी कारण बागेश्वर जिले का नाम इसी मंदिर के नाम पडा है | बागनाथ मंदिर के पास ही सरयू और गोमती नदी का संगम होता है। शैल राज हिमालय की गोद में गोमती सरयू नदी के संगम पर स्थित मार्केंडेय ऋषि की तपोभूमि के नाम से जाना जाता है। भगवान शिव के बाघ रूप में इस स्थान में निवास करने से इसे “व्याघ्रेश्वर” नाम से जाना गया , जो बाद में बागेश्वर हो गया | बहुत पहले भगवान शिव के व्याघ्रेश्वर रूप का प्रतीक “देवालय” इस जगह पर स्थापित था , जहां बाद में एक भव्य मंदिर बना । जो कि “बागनाथ मंदिर” के नाम से जाना जाता है । कुछ स्रोत बताते हैं कि बागनाथ मंदिर 7 वीं शताब्दी से ही अस्तित्व में था और वर्तमान नगरी शैली का निर्माण 1450 में चंद शासक “लक्ष्मी चंद” ने कराया था | इसके अलावा , मंदिर में देखी जाने वाली विभिन्न पत्थर की मूर्तियां 7 वीं शताब्दी ईस्वी से 16 वीं शताब्दी ईस्वी तक की हैं | इस तरह की प्रतिमाओं में उमा , महेश्वर , पार्वती , महर्षि मंदिनी एक भुखी, त्रिमुखी व चतुर्भुखी शिवलिंग, गणेश, विष्णु, सूर्य सप्वमातृका एंव शाश्वतावतार भी प्रतिभाओं को दर्शनीय बनाकर बागनाथ जी के मंदिर के निर्माण को 13 वीं शताब्दी के आस-पास का बताया गया है। (बागनाथ मंदिर का इतिहास)

किंवदंती यह है कि भक्तों ने मंदिर में एक शिवलिंग स्थापित करने का फैसला किया  लेकिन शिवलिंग स्थापित करने के प्रयास हर बार असफल हो जाते थे क्योंकि कोई भी मंदिर में शिवलिंग स्थापित नहीं कर सकता था लेकिन श्री मनोरथ पांडे जो कि एक स्थानीय पलयान गांव था , जो कि तपस्या किया करते थे और महा शिवरात्रि के दिन तपस्या करने के बाद श्री मनोरथ पांडे द्वारा मूर्ति को सफलतापूर्वक स्थापित किया गया । भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए ‘श्रावण’ के पवित्र माह के विशेष रूप से महा शिवरात्री पर और हर सोमवार को बागनाथ मंदिर में भक्तों की एक बड़ी संख्या लगी रहती है |

यदि आप बागेश्वर जिले में स्थित प्रसिद्ध एवम् धार्मिक “बागनाथ मंदिर” के दर्शन करना चाहते है , तो निचे दी गयी विडियो को जरुर देखे |

और उत्तराखंड राज्य में स्थित अन्य प्रसिद्ध , लोकप्रिय मंदिर के बारे में जानने के लिए हमारे You-Tube Channel को Subscribe जरुर करे |

और यदि आप बागेश्वर में स्थित “बैजनाथ मंदिर” के बारे में जानना चाहते है तो निचे दिए गए लिंक में क्लिक करे |



उम्मीद करते है कि आपको “ बागनाथ मंदिर के इतिहास ” के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेज को LIKE और   SHARE जरुर करे |

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOU TUBE CHANNEL जरुर SUBSCRIBE करे |