Nakuleshwer Temple, Pithoragarh !! (नकुलेश्वर मंदिर , पिथोरागढ़)

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको उत्तराखंड दर्शन कि इस पोस्ट में पिथौरागढ़ जिले में स्थित प्रसिद्ध मंदिर “Nakuleshwer Temple, Pithoragarh !! (नकुलेश्वर मंदिर , पिथोरागढ़) !!” के बारे में जानकारी देने वाले है | यदि आप नकुलेश्वर मंदिर के बारे में जानना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े !




Nakuleshwer Temple, Pithoragarh !! (नकुलेश्वर मंदिर , पिथोरागढ़)

nakulekshwer temple of pithoragarhनकुलेश्वर मंदिर एक विख्यात धार्मिक स्थल अर्थात मंदिर है , जो की पिथौरागढ़ शहर से 4 किमी दूर तथा शिलिंग गांव से 2 किमी दूर स्थित है । ‘नकुलेश्वर’ शब्द “नकुल” और “ईश्वर” दो शब्दों का मेल है। महिषासुर मर्दिनी की “नकुल” की मूर्ति शक्तिशाली हिमालय से सम्बंधित है , तथा ईश्वर शब्द ‘भगवान’ के लिए प्रयुक्त किया गया है इसलिए पूर्ण रूप से यह मंदिर हिमालय के देवता भगवान शिव की ओर संकेत करता है । कहावत के अनुसार, हिंदू महाकाव्य महाभारत के दो पौराणिक चरित्रों पांडवों अर्थात् नकुल और सहदेव ने इस मंदिर का निर्माण किया गया था।

किदवंतियो के अनुसार महाभारत के समय में युद्ध के दौरान पांडवो के चौथे नंबर के भाई नकुल इस स्थान पर अपनी छावनी सहित ठहरे थे | उन्होंने इस मंदिर में स्थित “शिवलिंग” कि स्थापना की थी | तभी से इस मंदिर को नकुलेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है | यह मंदिर खजुराहो स्थापत्य शैली में बनाया गया है तथा इसमें शिव-पार्वती, उमा- वासुदेव, नौवर्ग, सूर्य, महिषासुर मर्दिनी, वामन, करमा और नरसिंह समेत 38 विभिन्न हिन्दू देवी देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं , जो कि पत्थरो से बनी है | नकुलेश्वर महादेव मंदिर का अपना अलग ही महत्व है वैसे तो प्रतिवर्ष इस मंदिर में श्रधालुओ की भीड़ लगी रहती है लेकिन विशेषकर श्रावण के पवित्र महीने में इस स्थान में शिवजी की पूजा अर्चना करने के लिए शिव भक्त लम्बी-लम्बी कतार में खड़े रहते है |इस मंदिर का पिथौरागढ़ जिले के इतिहास के साथ भी सम्बन्ध है |

How to Reach Nakuleshwer Temple , Pithoragarh (नकुलेश्वर मंदिर कैसे पहुंचे !)

Road:-  नकुलेश्वर मंदिर, पिथौरागढ़ में भारत के प्रमुख शहरों और हरिद्वार, देहरादून, दिल्ली, हल्द्वानी आदि मोटरलैस सड़कों जैसे उत्तराखंड के साथ सुविधाजनक रोड रूट कनेक्टिविटी है। बस और टैक्सी आसानी से इन स्थानों से पिथौरागढ़ तक पहुँच सकते हैं।

Air:-  नकुलेश्वर मंदिर के लिए निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है , जो कि 241 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । नकुलेश्वर मंदिर अच्छी तरह से पंतनगर हवाई अड्डे के साथ जुड़ा हुआ है । बसों, टैक्सी और पंतनगर हवाई अड्डे से पिथौरागढ़ तक आसानी से पहुंच सकते हैं।

Railway:-  नकुलेश्वर मंदिर से निकटतम रेलवे स्टेशन टनकपुर रेलवे स्टेशन है , जो कि पिथौरागढ़ से 138 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है । टनकपुर से आप आसानी से बस , टैक्सी या सरकारी बस कि सेवा का फयादा उठाकर आसानी से पिथौरागढ़ पहुँच सकते है |

पिथौरागढ़ जिले में स्थित “प्रसिद्ध पर्यटन स्थल” के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए निचे दिए गए लिंक में क्लिक करे !

पिथौरागढ़ जिले के प्रसिद्ध मंदिर पाताल भुवनेश्वर मंदिर” , “मोस्तामानू मंदिर और कामाक्ष्य/कामख्या देवी मंदिर के बारे में जानने के लिए निचे दिए लिंक में क्लिक करे !




उम्मीद करते है कि आपको “ Nakuleshwer Temple , Pithoragarh !! (नकुलेश्वर मंदिर , पिथोरागढ़) ”के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा |

यदि आपको यह पोस्ट पसंद आई तो हमारे फेसबुक पेजको LIKE और SHARE  जरुर करे |

उत्तराखंड के विभिन्न स्थल एवम् स्थान का इतिहास एवम् संस्कृति आदि के बारे में जानकारी प्राप्त के लिए हमारा YOUTUBECHANNELजरुर SUBSCRIBE करे |