Home Blog Page 2

पहाड़ी समाचार उत्तराखंड भे वापिस लौट ग्यान 29 फीसद लोग

उत्तराखंड भे वापिस लौट ग्यान 29 फीसद लोग

     मुख्य मंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतेल क की प्रवासियों के मिलोल रोजगार

राज्य व्यूरो देहरादून : करोना संकटक चलते विभिन्न राज्यों भे उत्तराखंड लौटी प्रवासियों में भे 29 फीसद वापस लौट ग्यान | इम्मे कई मनख राज्यक भीतर ही अन्य जिलों में जारान | जबकी अन्य राज्य भे बाहर | शेष 71 फीसद अफुड़ मूल निवास या फिर उनोर नजदीक क्षेत्रों में मौजूद छू | पलायन आयोगक ओर भे वापस लौटी प्रवासियोंक आजीविका क मुख्यस्रोत और यो सम्बन्ध में सिफारिशों के ले भेरन तैयार रिपोर्ट में यो जानकारी देइ ग्ये की | सोमवार के सचिवालय में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतेल येक विमोचन करनक दगाड- दगाड ही इम्मे सुझाव गई बिन्दुवो में चर्चा करी | यो मौके में मुख्यमंत्री क की प्रवासियों के स्वरोजगार उ रोजगार क अवसर उपलब्ध करुनक लिजी विभागीय सचिवों के जिम्मेदारी सौपी गे | उनींछे य कार्य मिशन मोड़ में संचालित करनक निर्देश देइ ग्यान | पलायन आयोग क रिपोर्ट क मुताबिक वर्तमान में राज्य में वापस लौटी जो प्रवासी रे ग्यान , उनिन्मे आजीविका क लिजी 33 फीसद कृषि-बागवानी , पशुपालन , 38 फीसद मनरेगा , 12  फीसद स्वरोजगार और 17 फीसद अन्य स्रोत में निर्भर छू | आयोग क उपाध्यक्ष डा.एसएस नेगी ल मुख्यमंत्री के बता की अल्मोड़ा जील्ल में वापस लौटी 39 फीसद प्रवासी स्वरोजगार करमान जो अन्य जिल्लो भे काफी अधिक छू | नैनीताल , उधमसिंहनगर उ टिहरी क प्रवासी ले स्वरोजगार में अफुड निर्भरता दिखूमान | उनील बता की नैनीताल में 59 फीसद , पिथौरागढ़ में 57 बागेश्वर में 53 , चम्पावत में 40 , उत्तरकाशी में 45  फीसद प्रवासी कृषि , बागवानी उ पशुपालन और हरिद्वार में 75 फीसद , पौड़ी में 53 फीसद टिहरी में 51 फीसद , और चमोली में 43  फीसद प्रवासी मनरेगा में आजीविका क लिजी निर्भर छू | रिपोर्ट में आयोगेल राज्य उ जिला स्तर में प्रवासियों क आर्थिक पुनर्वास क लिजी प्रभावी सेल गठित करनेते और उनोर अनुभवों व जरूरतों क डाटा बेस तैयार करनक सुझाव दे खरी |

पहाड़ी समाचार उत्तराखंड भाजपा में गई उज्याडू बैलों के काबू में राखनेते प्रशसनीय

उत्तराखंड भाजपा में गई उज्याडू बैलों के काबू में राखनेते प्रशसनीय

राज्य व्यूरो , देहरादून : पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव हरीश रावत पर स्टिगबाजी प्रकरण में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावतक वार निशान में लागी | हरीश रावतेल क की वार निशान में लगा खरो | हरीश रावतेल मुख्यमंत्री क आरोपों में पलटकर वार करी और नसीहत दे | उनील क की मुख्यमंत्ररील क की कांग्रेस भे भाजपा में गई , उज्याडू बैलों के नियंत्रण में राखी , उ प्रशसनीय छू |

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतेल रोज स्टिगबाजक दगाड सम्बन्ध के लेभेरन पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावतेल निशान साधी छी | फेसबुक में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावतेल मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर पलटवार करते हुए लम्बी पोस्ट डाली | उनील क की स्टिगबाज के मुख्यमंत्री भे सम्बंधित केस में विधिक सहायता दिनी वाल कांग्रेस भे जुडी कपिल सिब्बल लब्ध – प्रतिष्ठित अधिवक्ता छू ? उनील अफुड धर्म निभा | येक मामल में के मेसे जोडनेते पुरे तरह गलत छू | स्टिगबाज के कलाकारक दगाड उनोर ने , बल्कि भाजपा क नेताओं क गहरा रिश्ता छू | येक कलाकारेली उनोर स्टिंग करी छी | जेक आधार में मेरी सरकार बर्खास्त भे उ राजनीतिक अस्थिरताक आ | वर्तमान भाजपा सरकार इवाले स्टिगबाजीक गर्भ भे पैदा हुई छू | मुख्यमंत्री के जो दर्द हुमरो कुछ यस दर्द मेसे ले हुमछी | हरीश रावतेल क की मुख्यमंत्री वाल प्रसंग में तो कुछ पेस के लेन-देनक उल्लेख छू | लेकिन उनोर मामल में टी कुछ बात हवाई छी | उनोर मम्ल में तो कुछ बात हवाई छी | उन में या कांग्रेस में गुस्सा निकलनक बजाय खतरे को समझो | राज्यक राजनीति में स्टिगबाजोंक उ उज्याडू विशेषज्ञ के आलिंगनपाश में बाधने क लिजी कई बांहे अकुलाई हुई | हाई कोटक आदेशक आलोक में जो कदम हमिल उठान , उ विपक्ष धर्मक अनुरूप छू |

पहाड़ी समाचार उत्तराखंड में बाबा केदार क दर्शन करनेते पूजन रिकार्ड यात्री

उत्तराखंड में बाबा केदार क दर्शन करनेते पूजन रिकार्ड यात्री

 केदार नाथ धाम में श्रद्धालु उमडन भे ग्यान | शुक्रवार के रिकार्ड 4138 यात्रियों क के बाबा केदार क दर्शन करी | यो यात्रा सीजनक दौरान एक ले दिन केदारनाथ पुजनी वालनक यो सपन हे ज्याद संख्या छू |

येक पूर्व , सर्वाधिक 3637 यात्री केदारनाथ पूजी छी | धामक कपाट बीती 29 अप्रैल के खोली गछी , लेकिन कोरोना संक्रमण क चलते यात्रा शुरू करनेकी अनुमति 12 जून भे दीई ग्ये | हालाँकि पेली लांकडाउन और बाद में अनलांक प्रकिया क बंदिशोंक चलते सिमिति संख्या में ले यात्रा केदारनाथ पुजुमरान| लेकिन आब यात्रियोंक के ले ऊनि-जनि क खुली छूट मिलनक बाद उनेर संख्या में खासा बढ़ोतरी हे ग्ये | पिछिल एक सप्ताह भे तो रोजाना तीन हजार भे ज्याद यात्री केदारनाथ पुजुमरान | शुक्रवार के इनेर संख्या चार हजारक आकड़ा पार करी ग्ये | इम्मे 2368 पुरुष , 1701 महिला और 69  नेनतीन शामिल छी |

पहाड़ी समाचार उत्तराखंड में लकड़क बनी आउटलेट में आब परोसी जाल पहाड़ी व्यंजन

 उत्तराखंड में लकड़क बनी आउटलेट में आब परोसी जाल पहाड़ी व्यंजन

जिला प्रशासनेल पर्यटक के पर्यटन स्थानों में पहाड़ी उत्पाद उ व्यंजन उपलब्ध करुनक अभियान पहल करी खरी | येक तहत महिला स्वयं सहायता समूहों क बड़े पैमाने में आधुनिक लुक वाली लड़की क आउटलेट उपलब्ध कराए जमरान | यो सुविधा दिनी वाल नैनीताल प्रदेशक पेली जील्ल छू |

    डीएम क और भे शुरू करी ग्ये यो पहल भे स्वयं सहायता समूहों क महिला उत्साहित छू | डीएमेक निर्देश में दीनदयाल अंत्योदय योजना , राष्टीय ग्रामीण आजीविका मिशनक तहत 12 पर्यटक स्थलों में हिलांस वुडन आउटलेट तैयार करी जा चूकी ग्यान | येक लिजी जिला योजना उ अनटाइड फंड भे डीएमेल आउटलेट क लिजी 35 लाखक बजट जारी करी छी | केएमवीएन द्वारा चयनित स्थल सातताल , सत्रोंव्यू , मुक्तेश्वर , नौकुचियाताल , टी गार्डन श्यामखेत , सरस मार्केट हल्दवानी , तहसील परिसर कलाढूगी , केवगार्डन , हनुमानगडी , साड़ीयाताल में य आउटलेट क काम पूरा हो चुका हैं महिलाओ द्वारा अचार , मुरब्बा , दालों अन्य सामानों क बिक्री करी जाली |  

  

 

पहाड़ी समाचर उत्तराखंड में 2022  में जनता क उम्मीद में खरा उतराल देवेन्द्र

उत्तराखंड में 2022  में जनता क उम्मीद में खरा उतराल देवेन्द्र

कांग्रेस क प्रदेश में प्रभारी देवेन्द्र यादवेल क की भाजपा क त्रिवेन्द्र सिंह रावतेकी सकार

कोविड -19 समेत तमाम मोर्चो में नाकाम रे | आम जनता बदलाव के चा | 2022 क विधानसभा चुनाव में पार्टी जनताकी यो उम्मीद में खरा उतरेली |

देवेन्द्र यादव कांग्रेस प्रभारी बनक बाद पेली बार मंगलवारक दिन तीन दिनी दौर में उत्तराखंड पुजान | प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में मिडिया भे बातचीत में प्रदेश प्रभारील क की सरकारेक चार सालेक परफारमेंस जनताली देख ह्या | जनता में निराशा छू | कोरोना संकट भे निपटन में सरकार विफल रे | अस्पतालोंक दुर्दशा छू | बेरोजगारी क समस्या विकराल हे ग्ये | सरकार आम जनताक दुःख – दर्द दूर ने कर पामे | उनील क की आम जनता जो बदलाव के चा उकी लिजी कांग्रेस भल विकल्प छू | पेली ले विकास के ले भेरन पार्टी भल कम करी खरो | आम जनता छे कांग्रेस भे बहुत ज्याद उम्मीद छीन | समाजक हर एक तबके जाती उ धर्म के ले भेरन पार्टी सक्षम छू | राज्यक वरिष्ट पार्टी नेताओक दगाड ब्लाक अध्यक्षों भे बातचीत क बाद आम वर्कर भे ले बात करी जाली | बदलाव के लेभेरन ऊनीन्छे दिखाई बाट में हगील बडनक लिजी रोडमैप तैयार करी जाल | पार्टी में गुटबंदी या खीचतान भे इंकार करते हुए उनील क की परिवार में छोटी मोटी कहासुनी आम बात छू | आब दगाड में कती को दिक्कत ने छू |

इवाल मौका में प्रदेश काँग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने ले प्रदेश में पार्टी क भतर को ले तरहक अंतर्विरोध भे इंकार करी | पार्टी में आतंरिक लोकतंत्र छू | प्रत्येक व्यक्ति अफुड बात पार्टी फोरम में कुनेकी लिजी सवतंत्र छू | दरअसल  देवेन्द्र यादवक दौर में अलग विधानसभा चुनाव क तैयारी भे जोड़भेर देखी जा सकू | उनोर आते ही यो संकेत ले मिल गछी | प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पहुचाते ही उनील सबसे पेली बंद कमर में प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस महासचिव हरीश रावत , नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हद्येश , विधायक उ राष्टीय सचिव काजी निजामुद्दीन तथा सह प्रभारी राजेश धर्माणी क दगाड एक घंट भे ज्याद वक्त तक बैठक करी | यो बैठक के 2022 क चुनाव में प्रदेश में कांग्रेस के एकजुट करनेते और सबके विश्वास में ले भेर चलनक कोशिश क रूप में देखी जमरो इम्मे पूर्व प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादवेल पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता दीपक बल्यूटीया के ले आवशयक दिशा निर्देश दे |

पहाड़ी समाचार उत्तराखंड में सेतु तैयार , आब खुलनक इंतजार छू

[av_textblock size=” font_color=” color=”]
उत्तराखंड में सेतु तैयार , आब खुलनक इंतजार छू

तीर्थनगरी में मुनिकीरेती और स्वर्गाश्रम के जोड़नी वाल बहुप्रतीक्षित जानकी सेतु क निर्माण पूर हे ग्यो | लोक निर्माण विभागेल पुलक टेस्टिंग क बाद शेष बची कम ले पुर हे ग्यो | हालाँकि , ऐल पुल के खोलनक दिन निश्चित ने करी खरो , लेकिन उम्मीद छू की राज्यस्थापना दिवस में तीर्थनगरी के जानकी सेतु क सौगात मिल जाली |

गंगा नदी में मुनिकीरेती [ कैलाश गेट ] और स्वर्गाश्रम [ वेद निकेतन ] क बीच जानकारी सेतु क सपना वर्ष 2006 में झुलापुल क रूप में देखी ग्यो छी | तब यो झुलापुल क निर्माण में करीब 3 करोडेक लगत उमरछी येक लिजी तत्कालीन मुखात्मंत्री एनडी तिवारील चार लाख क टोकन मनी ले तैयार कर देई छी | मगर कुछ समय बाद मामला ठंठ पद गछी | बाद में भुवन चन्द्र खंडूडी सरकारेल जानकी सेतु के झूला पुलेक बजाय थ्री – लेन ब्रिज क रूप में तैयार करनक मंजूरी दे और येक लागत ले 33 करोड़ रूपये जा पूची | वर्ष 2014  में 346  मीटर लम्बी व चार मीटर चौड़े यो थ्री – लेन ब्रिज क निर्माण कार्य शुरू भयो जेसे 31 मार्च 2016  तक पूर हुन छी मगर निर्माण एजेंसील रिवाइज बजट ने मिलनते काम के रोकी गछी | जिम्मे पुल फिर दिवि साल तक अधर में रुकी रछी| दिसंबर 2018 में पुनः रिवाइज बजट 48.8 करोड़ मंजूर करनेते पुल के अक्टूबर 2019 तक पूर करनक लक्ष्य राखी छी | हालाँकि , काम करीब 1 सालक विलंब भे पूर हे पा |

[/av_textblock]

[av_one_full first min_height=” vertical_alignment=” space=” custom_margin=” margin=’0px’ padding=’0px’ border=” border_color=” radius=’0px’ background_color=” src=” background_position=’top left’ background_repeat=’no-repeat’ animation=” mobile_display=”][/av_one_full]

[av_image_hotspot src=’http://www.uttarakhanddarshan.in/wp-content/uploads/2017/08/laxman-pul-in-rishikesh-300×168.jpg’ attachment=’416′ attachment_size=’medium’ animation=’no-animation’ hotspot_layout=’numbered’ hotspot_tooltip_display=” hotspot_mobile=’aviaTBhotspot_mobile’]

उत्तराखंड में वन्यजीव सुरक्षा के आईटीबीपी और एसएसबी क मदद

उत्तराखंड में वन्यजीव सुरक्षा के आईटीबीपी और एसएसबी क मदद

उत्तराखंड में वन्यजीव सुरक्षा के लेभेरन आब नई रणनीति क तहत काम शुरू हे ग्यो | खासकर उत्तराखंड भे सटी नेपाल सीमा में विशेष फोकस करी ग्यो | वा भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल [ आईटीबीपी ] व सशस्त्र सीमा बल [एसएसबी] क मदद लेई जाली | हाल में हई हाईलेवर इंटर एजेंसी मीटिंग में यो बार इम्मे सहमती बनी | एसे देखते हुए वन महकमेल आईटीबीपी और एसएससबी भे समन्वय स्थापित करनक जिम्मा हल्दवानी क डीएफओ के सौप हया | येक अलावा वन्यजीव में शिकार क लिहाज भे सवेंदनशील क्षेत्र में कुख्यात बावरिया गिरोहों व सपेरो पर नजर राखनक लिजी वन महकमा स्थापित पुलिस क सहयोग लेल

छह राष्टीय उद्धान, सात अभयारण्य और 4 कंजर्वेशन रिजर्व वाल उत्तराखंड में वन्यजीव सुरक्षा के ले भेरन अक्सर सवाल उठते रुमान | पूर्व में उच्च नययालय में ले इम्मे चिंता जताते हुए वन्यजीव सुरक्षा के ठोस एवं प्रभावी कदम उठुनक आदेश दे खरान| एसे देखते हुए आब  संजीदगी भे कदम उठून जमरान | येक कड़ी में हाल में हई हाईलेवल इंटर एजेंसी मीटिंग में वन्यजीव सुरक्षा क लिजी विभिन्न विभागों क भे समन्वय स्थापित करनकनिर्णय लेई ग्यो | इम्मे नेपाल सीमा में निगरानी समेत अन्य जरुरी कदम उठुन में जोर देई ग्यो |

राज्यक मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक जेएस सुहाग क अनुसार नेपाल भे सटी उत्तराखंडक सीमा में आईटीबीपी उ एसएसबी क तैनाती छू | बैठक क लिजी लेई निर्णयक अनुसार महकमा अब सीमा पे वन्यजीव सुरक्षाक लिजी इनेर मदद ले | उनील बता की नेपाल सीमा में आईटीबीपी व एसएसबी भे समन्वय क जिम्मा डीएफओ हल्द्वानी के देई ग्यो | येक अलावा नेपाल सीमा भे सटी ब्रहमदेव मंडी क सर्वे करनक लिजी चम्पावत क डीएफओ क एसएसबी भे समन्वय क लीजी कई ग्यो |

सुहाग में बताई ग्यो की जिन क्षेत्रो में आईटीबीपी क तैनाती छू वा वन्यजीव सुरक्षा में सहयोग क लिजी उम्मे संबंधित जिलोक डीएफओ के ले सम्पर्क करनक निर्देश देई ग्यान | सुहाग क अनुसार बैठक में वन्यजीव अपराधियों क केस कमजोर हुनक अर्थवा साक्ष्य क अभाव में बरी हुनक में तय भ्यो की राष्टीय बाघ  संरक्षण प्राधिकरण [एनटीसीए] द्वारा वनकर्मियो क प्रशीक्षण देई जाल |

  पहाड़ी समाचार उत्तराखंड में बदरीधाम के बनाल आध्यात्मिकत टाउन

[av_textblock size=” font_color=” color=” admin_preview_bg=”]
                         उत्तराखंड में बदरीधाम के बनाल आध्यात्मिकत टाउन

संवाद सहयोगी गोपेश्वर : बदरीनाथ धाम के आध्यात्मिक टाउनक रूप में विकसित करी जाल | पर्यटन , धर्मस्व एवं संस्कृति सचिव दिलीप जावलकरेल क की बद्रीनाथ मास्टर प्लान के ले भेर कलक्टेट सभागार में जिलास्तरीय अधिकारियों क दगाड विचार – विमर्श करी |

बदरीनाथ मास्टर प्लानक जानकारी दिन बख पर्यटक सचिवेल क की विभिन्न विभागों भे बदरीनाथ में प्रस्ताव एवं निर्माणधीन कार्यो में ले चर्चा करी | क की मास्टर प्लान के ध्यान में रखते हुए ले बदरीनाथ में हगीलक निर्माण कार्य करी जाल |

पर्यटक सचिचल क की मास्टर प्लानक किर्यान्वित करन में जिला प्रशासनक अहम भूमिका रोली | उनील प्रस्तावित मास्टर प्लान के ले भेरन बदरीनाथ में डिटेल सर्वे करनक सर्वे आधार में भूमि अधिग्रहण क प्रस्ताव तैयार करन और सर्वे क आधार में भूमि अधिग्रहण क प्रस्ताव तैयार करन आजी प्रभावित मखनक पुनर्वास क लिजी लैडबैंक तैयार करनेते क | क की बदरीनाथ मंदिर पेली तरह देवदर्शनी और पूरे बदरीनाथ टाउन में हर छोर भे दिखाई दे , इम्मे विशेष फोकस राखी जाल | क की बदरीनाथ धाम में तालाब क सौंदर्यीकरण , स्टीट स्कैपिंग , क्यू मैनेजमेंट मंदिर और घाटक सौंदर्यीकरण , बदरीश वन , पार्किंग फेसलिटी , रोड और रिवर फरंट  डेवलपमेंट आदि निर्माण कार्य मास्टर प्लानक तहत चरणबंध ढंग भे प्रस्तावित करी ग्यो| यात्री सुविधाओ क लिजी पेली चरण में शेष नेत्र , बदरीश झील आजी मंदिरक आसपास क क्षेत्र में काम करी जाल | दूसर चरण में मुख्य मंदिर , नदी तटों , घाटों एवं आसपास क स्थानों क सुसज्जित व विस्तारीकरण करी जाल | तत्पश्चात अंतिम चरण में शेष नेत्र भे बदरीनाथ मन्दिर तक आस्था पथ निर्माणक काम होल | हगील साल मार्च में निर्माण कार्य शुरू होल | बता की उत्तराखंड नगर नियोजन विभागेल पेली हे बदरीनाथ धामक विकासक लिजी मास्टर प्लान – 2025 तैयार करी खरो यो प्लानक कंपोनेंट और धाम में वर्तमान चुनौती के ध्यान में रखते हुए लगभग 85 हेक्टेयर क्षेत्रफल में सुविधाओक विकसित करनक लिजी एक मास्टर प्लान तैयार करी जमरो जम्मे यो पुर्रे हिल टाउन में सुव्यस्थित ढंग भे टैफिक मैनेजमेंट हे सकल और तीर्थ यात्रीयों क यां धार्मिक और आध्यात्मक अनुभूति मिल सकेली | उनील क की यांक हक़ हकूकधारियों तीर्थ पुरोहितोक व्यापारियों आजी स्थानीय निवासियों क हितों , उनार रोजगार आजी आजीविका क ध्यान में रखते हुए यां मास्टर प्लान क तहत विकास कार्य करी जाल | पर्यटक सचिवल क की हर साल लगभग 12 लाख श्रद्धालु बदरीनाथ पहुच राम | वर्तमान में रेलवे और आलवेदर रोड क काम पूर होल जब यां हर साल 30 लाख भे ज्याद तीर्थयात्री पूजाल| तीर्थयात्रियों क बेहतर सुविधा मुहैया करुनक क लिजी बदरीनाथ टाउन में टैफिक मैनेजमेंट और यात्री सुविधाओं क जुटून जरुरी छू |
[/av_textblock]

[av_image src=’http://www.uttarakhanddarshan.in/wp-content/uploads/2019/06/badrinath-300×180.png’ attachment=’5831′ attachment_size=’medium’ align=’center’ styling=” hover=” link=” target=” caption=” font_size=” appearance=” overlay_opacity=’0.4′ overlay_color=’#000000′ overlay_text_color=’#ffffff’ animation=’no-animation’ admin_preview_bg=”][/av_image]

पहाड़ी समाचार  उत्तराखंड में 10 हजार नियुक्तियोंक बाट साफ

 उत्तराखंड में 10 हजार नियुक्तियोंक बाट साफ

 उत्तराखंड में 10 हजार वन प्रहरियों क तैनाती क 41.80 करोड़ क प्रस्ताव , बजट अनुमोल

राज्य व्यूरो, देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतक घोषणा क अनुरूप वन विभाग क माध्यम भे 10 हजार व्यक्तियोंक के बतौर वन प्रहरी रोजगार दिनेक बाट साफ हे ग्यो |

उत्तराखंड प्रतिकारात्मक वनरोपण निधि प्रबंधन आजी योजना प्राधिकरण [ उत्तराखंड कैंपा ] क राज्य स्तरीय स्टीयरिंग कमेटी क बैठक में चालू वित्तीय वर्ष क लिजी 265 करोड़ क बजट अनुमोदन करी ग्यो | इम्मे 41.80 करोड़ेक राशी क तैनाती क लिजी प्रस्तावित करी ग्यो | येक अलावा छह नदियोक पुनर्जीवीकरण , चार बन्दरबाड़ों क निर्माण , मानव – वन्यजीव संघर्ष थमनेते कदम समेत अन्य कदू काम ले कैंपा क वार्षिक कार्ययोजना में निर्धारित करी ग्यो |

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावतेल बीती नौ सितम्बर के उत्तरखंड कैंपा क समीक्षा बैठक में वन विभाग में 10 हजार मंखनेली रोजगार मुहैया करुनेक निर्देश दीई छी | येक बाद कैंपा क कार्यकारी समिति क 23 सितम्बर के हई बैठक में वन प्रहरियों क तैनात समेत अन्य मसालोंक के शामिल करक लिजी वार्षिक कार्ययोजना क अंतिम रूप देई ग्यो | य 210 करोड़ेक छी | जैसें अनुमोदनक लिजी सोमवार के मुख्य सचिव ओमप्रकाश क अध्यक्षता में हई कैंपा क राज्य स्तरीय स्टीयरिंग कमेटी क बैठक में अनुमोदन क लिजी राखी ग्यो | स्टीयरिंग कमेटील वार्षिक कार्ययोजना पर मंथनक बाद इम्मे 55 करोड़ेक वृधि करनक फैसला लेई ग्यो | येक बाद राज्यक लिजी कैंपा क 265  करोड़ क वार्षिक कार्ययोजना अनुमोदित कर दे ह्या | बैठक में मौजूद रइ कैंपा क कार्यकरी समितिक अध्यक्ष एवं वन विभाग क मुखिया जयराज क अनुसार कार्ययोजना में 10 हजार वन प्रहरियों क तैनाती क लिजी 41.80  करोड़ क प्रविधान प्रस्तावित छू | वन प्रहरियों क वन एवं वन्यजीव क सुरक्षा , वानिकी कार्यो में सीजनल तैनाती दी जाली | कार्य योजनाक मुताबित यो साल राज्यक खोह , गड़क , हेन्वल गहड़ , मालन , गरुड़गंगा , रोइगांड नदियोक कापुनजीवीकरण करी जाल , जेक लिजी 51.85 करोड़ क बजट प्रस्तावित छू येक अलावा गढ़वाल व कुमाऊ  मंडलोक 2 – 2 बन्दरबाड़ों क लिजी 19.30 करोड़ , गढ़वाल उ कुमाऊँ क 50-50 गॉव में वन सीमा में 125 किमी सूअररोधी दीवार निर्माण के 25.58 करोड़ , 50 किमी सोलरपावर फेसिंग के 5.34 करोड़ विभिन्न वन प्रभागों में वन सीमा में 13 किमी हाथी रोधी दीवार निर्माणक लिजी 12.22 करोड़ , 250 किमी हाथी रोधी खाइयों क लिजी 3.89 करोड़क प्रविधान प्रस्तावित छू |

पहाड़ी समाचार रुद्रप्रयाग जील्ल क प्रति व्यक्ति आय सबसे कम बड पलायन

     रुद्रप्रयाग जील्ल क प्रति व्यक्ति आय सबसे कम बड पलायन

देहरादून : केदारनाथ धाम होते हुए ले रुद्रप्रयाग जिल्ल्क प्रति व्यक्ति आय प्रदेश में सबसे हे कम छू या भे करीब 22 हजार लोग पलायन कर हालन और 35 गॉव के जारी हुई पलायन आयोग क रिपोर्ट में य तस्वीर सामीण में आ रान |

रुद्रप्रयाग चार धाम यात्रा मार्ग क मुख्य पड़ाव में भे एक छू | पिछिल साल ले केदारनाथ में करीब 10 लाख तीर्थयात्री भे दर्शन करान | येक बावजूद आर्थिक मोर्च में रुद्रप्रयाग जिल्लक हालत सही ना हा | पलायन आयोग क अध्यक्ष एसएस नेगी क मुताबित रुद्रप्रयाग जिल्लक प्रति व्यक्ति आय मात्र 83551 छू | जबकि हरिद्वार जिल्लक 2 लाख भे ज्याद छू योई वजह छू कि रुद्रप्रयाग में पलायन क खासी मार छू | आजीविका या रोजगार क लिजी ही यां भे करीब 52 प्रतिशत मनख नेन पलायन करी | जिल्लक तीन विकास खंड छान | अगस्त्यमुनि , उखीमठ और जखोली | पीछील 10 साल में अग्स्त्युमुनी क 153 ग्राम पंचायत , जखोली क 98 आजी उखीमठ क 65 ग्राम पंचायत अस्थाई पलायन भे प्रभावित भे येक मतलब यो छू की | इद्यु गावं क मनख   गॉव के छोड़ भेरन ले ग्यान फिर ले को न को बहानेल गॉव भे सम्पर्क बना राखो | कुल मिलाभेरन यांक गॉव क संख्या 316 छू | पूर्ण पलायन भे प्रभावित 230 गॉव छीन |  7835   मनख पूर्ण रूप भे पलायन कर हेज्ञान 26 भे 35  आयु वर्ग में करीब 40  प्रतिशत पलायन हरो आजी यो अन्य वर्गो क तुलना भे ज्याद छू | आब ऋषिकेश – कर्णप्रयाग रेलवे लाइन और आँल वेदर रोड परियोजना भे यो जील्ल के सबन हें ज्याद उम्मीद छू |

 

कुंभ : हजार बेड क कोविड सेंटर बनोल , 3250 होमगार्ड हवाल भर्ती

        मुख्यमंत्री करी समीक्षा : कूड़ा निस्तारण लिजी 35 करोडेक योजना बनेली

देहरादून : कुंभ मेलक आयोजन क तैयारी तेज हे ग्ये | सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत क अनुसार कुम्भ मेलक निर्धारित समय में हे जाल और येक स्वरूप भव्य और दिव्य होल | दिसम्बर तक स्थाई व अस्थाई निर्माण काम के पुर करी जाल | हरिद्वार और ऋषिकेश में कूड़ा निस्तारण क लिजी 35  करोड़ क कार्य योजना तैयार करी जमरे | मेलक लिजी हरिद्वार में 1000  बेड क कोविड केयर सेंटर बनोल | 400 भे 500  अतिरिक्त डाक्टरों क जरुरत होली | वाई मुख्यमंत्री कुम्भ मेलक सुरक्षा व्यवस्था लिजी 3250  होमगार्ड क नियुक्ति क प्रस्ताव के मंजूरी दे ह्या |

मंगल बारक दिन सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावतेल सचिवालय स्थित वीर चंद्र सिंह गढवाली सभागार में कुंभ मेलेक तैयारीक समीक्षा करी | सीएम कुम्भ मेले में सौन्दर्यीकरण व स्व्च्छता पर विशेष ध्यान दिनक निर्देश दे | क की हरिद्वार व ऋषिकेश में कूड़ा निस्तारण सुनिशिचत करें तत्काल कूड़ा निस्तारण क लिजी टेंडर प्रकिया पूरी करीं सीएम ने क की कुम्भ मेलक धार्मिक और संस्कृतिक महत्व के बरकरार रखते लिजी कोविड क दृष्टिगत सुरक्षित आयोजन करी जान छू | येक सम्बन्ध में अखाड़ों क संत महात्माओं क मार्गदर्शन क सहयोग लिई जाल |

उनील सप्पे काम दिसम्बर तक पूरे करनक मुख्य सचिव के हर सप्ताह कुंभ क तैयारी क समीक्षा करनक लिजी क वई , शहरी विकास सचिव तीन दिन में और मेलाधिकारी रोज कार्यों क निगरानी कराल |

मेलाधिकारी दीपक रावतेल कुंभ मेलक विभिन्न कार्यों क प्रगति क जानकारी दे | उनील बता की हरिद्वार में कूड़ा निस्तारण क लिजी करीब 35 करोड़ क कार्ययोजना तैयार करी ग्ये | हरिद्वार में एक हजार बेड क कोविड केयर सेंटर बनाई जाल | मेलक मेलक लिजी करीब पञ्च सौ डाक्टरोंक अतिरिक्त जरुरत होली | बैठक में शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक , मुख्य सचिव ओमप्रकाश , सचिव आरके सुधांशु छी |